Friday, May 25, 2018

Bus Girl Hindi Laghu Kahani लघु हास्य कथाएं

यह कहानी लड़की के आसपास घूम रही है।









सुबह का समय time है,घडी पर वक्त देखा तो घडी watch कलाई पर नही लगी थी, मंथे पर हाथ मारा और खुद से बोला अरे यार घडी को तो मैं ज्ल्दी में भूल गया।


समाने दो आदमी आपिस में झगडा कर रहे है, मैं उनके पास जाने लगा तभी बस आ गई, बस में से सवारीयों नीचे उतरी और मैं उनके बाद बस में चढ गया.


तभी मेरी नज़र पीछे की तरफ गई देखा की एक लड़की बस के पीछे भागी आ रही है, बस रूक गई और लड़की चढ गई |


कंडक्टर के टिक्ट मांगने पर मैने जेब में हाथ डाला तो जेब में परस नही था.

कंडक्टर :-  '' बाई साहिब टिक्ट ''


मैंने बोला  :- " वो ...... जल्दबाजी  में ........परस घर पर ही भूल गया ''



कंडक्टर मेरे कंन्थे पर हाथ रखते बोला :-  '' तुम्हारे जैसे हम को रोज 36 मिलते है,चल जल्दी से पैसे निकाल ''



लड़की  मेरे तरफ देख रही थी, मैंने बैग में परस को ढूढा लेकिन वहां पर नही मिला, मन में परस को गाली वी दे रहा था।




लड़की कंक्डटर को पैसे देते बोली :-  '' भाईयां .....यह लो दो टिक्ट ''


मैंने लड़की को सारी बात बता दी.


लडकी ने होठों में मुस्कराते हुऐ कहा :- '' कोई बात नही ..... हो जाता है कभी कभी ऐसा ''




तभी उसका   Stop आ गया और वो उतर गई, एक साल हो गया अब भी मैं उसको बस में हर रोज ढूढता हूं और अभी तक नही मिली।


जब मिलेगी जो बात - चीत हमारे बीच होगी, उसको कलम के चारिऐ आप तक पुहंचा देगे.


The End




Read also 

1  Panchvi interview

2  Without sugar Tea hindi short story   



  
यह रचना Script Rachna kaisi lagi पसंद आई,तो आप से हमारा Request है, की आप इसको अपने Mitro के साथ साझा Share करें.

Thanks For reading.

मित्रता पर शायरी | safaltaa ka rahasya in hindi | vishvtrading.com | 
दिल को छू सच के लिए हिंदी में प्रेरक विचारों | सामाजिक हास्य कहानी | whatsapp हास्य कहानी | बाल हास्य कथा | मजेदार लघु कथा | हास्य किस्से | हास्य कहानी इन हिंदी पीडीएफ | बच्चों की हास्य कहानियाँ |हास्य व्यंग्य नाटक


        

0 Comments: