स्क्रैप का बिजनेस | How to start a business of kabaar

र कोई बिजनेस नहीं कर सकता और दूसरे Number पर कहे की हर कोई job नहीं कर सकता,हर इंसान का किसी काम को करना का अपना Mind होता है.

अगर,कहें सरकारी नौकरी या फिर प्राइवेट जॉब करने वाले को कि आप Business कर सकते हो? तो वह वो बोलागा मुझसे नहीं होगा मेरे से नहीं हो पाएगा इसके के बिना अगर आप बिजनेस करने वाले को पूछो कि आप नौकरी कर लोगे 50% 

बोलेंगे पागल समझ रखा है,हम लाखों कमाते hian aur तुम मुझे 30/40 हज़ार वाली नौकरी करने के लिए बोल रहा है. 


कुछ लोग जो बिजनेस माइंडेड होते है,उनको बिज़नेस करना अच्छा लगता है.दूसरी तरफ हर किसी की अपनी — अपनी सोच होती है.किसी को नौकरी पसंद है और किसी को बिज़नेस.


लेकिन,यहां पर आपकी जानकारी के लिए बता दे की अगर बिज़नेस चल पडा यां फिर वो लोग जिनके बिज़नेस अच्छे चलते है वो नौकरी करने वालों से कहीं ज्यादा कमाते है महीने का इसमें चाहे बात पाईवेट नौकरी की कर ले या​ं फिर सरकारी नौकरी. 


1.बिज़नेस का नाम 

कबाड का काम करना kabaar ka dhandha इसकी दूसरी खास बात इसको कम पढा लिखा और गरिब आदमी poor men gareeb aadmi भी चालू कर सकता है.



2.कबाड़ किसे कहते है 

किसी भी छोटे - बडे धंन्धें को चालू करने से पहले kisi bhi chote bade bande ko chalu karne se pahle उसके बारे में थोडा सी जानकारी jankari होने चहिऐ,बिना जानकारी के कोई कार्य work करना बहुत ही कठिन imposibale kathin साबित होगा। तो इस लिए हम आपको कबाड के बारे में बता रहे हैं।

आपके घर में स्टोर ghar mein store  ते होगा और वहां पर जो वस्तू बेकार टूटें हुई पडी है वहीं स्क्रैप कहिलाता हैं। इसमें आपका कुछ भी हो सकता हैं जैसे की —

1.मेज।
2.कुर्सी।
3.पंखा।
4.छत वाला पंखा।
5.बोतल।
6.कांच की बोतल।
7.पलास्टिक की बोतल।
8.दवाई वाली सीसी।
9.कांच का बलब।
10.बि​जली की तारों।
11.बच्चें की खेलने वाले खलानें।
12.दांतों वाला टूटा हुआ बूरस।
13.लेहे की अलमारी।
14.रसोई वाले बरतन।

आदि। etc

तो कुछ इस तरहां का समान gharo में हमेशा खराब और टूटता रहता हैं और हम इस कबाड को कबाडियों को देकर बदले में पैसें कमा लेते है। dhan kama sakte hain.



3.कबाड की दूकान खोलने के लिए किस तरहां का समान चहिए


इस कार्य में कुछ खास समान की जरूरत नीं होगी, बस थोडा सा समान चहिऐ जिसको आप गांव सें यां अपने नजदीक पडते शहर से खरीद सकते हो। कौन सा समान खरीदना होगा, सुची विस्तार रूप से नीचे दी ऐ।

1. कबाड तोलने के लिए तराजू।
2. बाट
3. 500 ग्राम।
4. 1 किलों।
5. 2 किलों।
6. 5 पांच किलों।
7. 10 किलों।
8. 20 किलों के तीन बाट।

3.टेबल।
4.चार कुर्सीयों।
5.छत वाला पंखा।
6.पानी वाला घडा।
7.रेडिऐ।
8.मोईबल फोन।
9.डायरीयां।
10.दो साईकिल।
11.एक मोटरसाईकिल।
12.एक कलैकूलेटर।
13.5 पैन नीले और लाल रंग के।
14.दूकान का बोर्ड।

तो यह लिस्ट हैं समान की बाकी अगर कुछ रह गया हो तो आप उसको अपनी जरूरत के अनुसार खरीद सकते हो.



4.जगा

रद्दी माल raddee mall की वर्कशॉप workshop के लिए आपको पास खुली जगा होनी चहिऐ for examples :-

1.जैसे स्कूल में खेल का मैदान | skool mein kheal ka medaan.

जगा को किराऐ पर ले सकते हो और हां अगर खुद की जगा पडती है तो उसको रद्दी माल की हटी में तबदील कर दीजिए। किन्तू kintu कई बार क्या होता ऐ हमारे पास ज्यादा धन ना होने की बजा से। यां फिर गरीबी की मार के नीचे होने की बजा से। तो  एक काम करें घर में एक कमरा ghar me kamra | को खाली करले और उसकों ही रद्दी माल की दूकान में बदल दीजिऐ, बाद में जैसे आपका  gharelu dhandha चलने लगेगा आप के पास धन अधिक हो जाऐगा, तो कहीं और गांव के बाहर gaon ke bahar  शहर के पास sahar ke pass जगा को खरीद सकते हो.



5.रद्दी माल वाली दुकान का नाम रखना  

वर्कशॉप का काम naam रखना बहुत ही आसान easy होगा,नाम रखते समय लोग log अक्सर गलतियां कर जाते हैं क्योंकि because बहुत से लोग यह नहीं nahi जानते नाम आपके बिजनेस bijnis को आगे बढ़ने में काफी मदद madaat करता ह. कुछ लोग kuch log ऐसे होते ऐ जो आपके नाम को नी जानते लेकिन आपकी दूकान के नाम को जानते ऐ.

दुनियां में कई ऐसे कंपनी Indian company ऐ उनके बारे में अच्छी तरहां से जानते होगे। नीचे कुछ सुझाव देगे जिनको ध्यान में रखकर नाम रखना होग।


1.नाम कवेल अपनी मात्र भाषा में रखें जैसे :- हिन्दी।Hindi पंजाबी। Punjabi बंगाली। Bangla  मराटी। Marathi.
2.नाम ऐसा रखे की पढ़ने वाला बोल : - " वांह क्या नाम है "
3. ज्यादा लंबा नी होना चहिए।
4.कवेल एक रंग का उपयोग कीजिऐ।
5.शब्दों का अकार बडा रखें। 



6.कितने पैसों की जरूरत पडेगी 

जितने पैसे है उतने पैसे से कबाड का काम शुरू कर सकते हो अगर  40,000 ह, तो  इससे कबाड का काम असानी से कर ऐ अगर आप के पास इससे ज्यादा होंगे तो आप उन पैसों से भी यह काम को कर सकते है। 



7.दुकान का पंजीकरण  

अगर,आप चहाते हो सरकारी आधिकारी तंग ना करें तो पंजीकरण करवाना जरूरी ऐ इसके लिए नजदीक के सरकारी दफतर से तालमेल करें, विभाग की वेबसाईट का लिंक नीचे ऐ, यहां से पूरी सही तरीके के साथ पूछताछ कर सकते हो.


A.For Punjab :-https://pblabour.gov.in 

B.For India :-.http://www.labour.delhigovt.nic.in



8.लेबर की जरूरी 

शुरू में suru mein लेबर की कोई जरूरत नही,बाद में जब काम चल पडेगा, लेबर रख सकते हो। फिर भी ज्यादा नीं दो यां तीन आदमी जो आपके काम की देख - रेख करेंगें.



9.किस तरहां का रद्दी माल ले 

जानकारी के लिए बता दे,आप हर प्रकार का कबाड खरीद सकते हो जैसे की :-

1.टूटी चप्प्ल.
2.कुर्सीयां
3.बोतल
4.लोहा
5.टीन
6.टूटे
7.बरतन

आदि समान को खरीद सकते हो.





9.आय 

उदहराण के तैर पर :-  आप 1 किलों लोहा 10 रू में लेते हो, इसको फैंकटरी में 20 रू किलो के हिसाब से बेचते हो .....आपको सीधे — 10 रू का मूनाफा हो गया आप इस प्रकार से कम कीमत पर खरीद कर आगे अराम से इससे ज्यादा कीमत पर बेच दे और अराम से घर बैठे महिने का 20,000 यां 25,000 हजार तक की कमाई करें।




10.कुछ जरूरी बांते  

कबाड की दुकान में भगवान की फोटो जरूर लगाऐ और सुबह शांम दुकान में पूजा करें और हर दिन भगवान का नाम लेकर काम को शुरू करें, आप के ऐसा करने से आप बहुत जल्द कामयाबी हासिल कर लोगे. 

छोटा biznes को शुरू करने से पहले इन डाक्यूमेंट्स का होना लाजमी होगा वैसे तो आजकल हर किसी के पास हैं लेकिन फिर भी हमारा  कर्तव्य  है की एक अच्छे bisnis men पास काग़ज़  होने चाहिऐ.
  
1.पैनकार्ड 
2.बैंक खाता 
3.एटीएम कार्ड  
4.करंट अकाउंट 
5.नेटबैंकिग 
6.अधार कार्ड 
7.बहीं खाता 

आपको बहीं खाते की जरूरत पडेगी, साधारण शब्दों में कहें की आपको एक कॉपी लगानी होगी जिस पर रोज की सेल का वेरवा देना होगा, दूसरी तरफ आज के दिन कितने किलों छोले बेच दिए उसका हिसाब। तीसरे नंबर पर एक दिन का खर्च कितना हुआ | इस तरहॉ से आपको एक दिन का पूरा लेखा जेखा लिखना पडेगा.

ऐसे करने से आपको यह पता लगाने में असानी होगी, की मेरा एक दिन का कितना खर्च हो गया,सेल कितनी हुई और बचत कितनी हुई आदि।



8.बही खाते वाली किताब कितने रुपए के मिलेगी 

हमारी राय रहेगी की गांव या शहर की दूकान से 20 रू या 50 रू वाला एक साधारण सा रजिस्टर कॉपी खरीद लें,आपको ज्यादा पैसें लाने की कोई जरूरत नही, वैसे जो असल बहीं खाते वाली किताब आती है, उसका मारकीट रेट कोई 200 रू से लेकर 600 रू तक होगा.



अंंत में:- तो कुछ इस तरहां से आप kam punji me chote kaam ki suruwat कर सकते है। इसको Suru करने के लिए किसी bank se loan lene ki jarurat नही.पहिले आप पार्ट टाईम [ Part time ] करके देखे अगर अच्छा लगा तो पुरे दिन के लिए करना शुरू कर दे.



Please fallow us 

---------------******----------------



SHARE THIS

Author:

I LOVE WRITING

Previous Post
Next Post