Hindi Laghu Katha Lovely Episode No 1

One line :- यह कहानी लवली नाम की लड़की जो की पंजाब के एक गांव #Patiala के पास रहती है उसके आस पास घूम रही है, यह एक #Hindi Tv #Serial की कहानी की तरहां है जिसको आप पढते समय टीवी सीरीयल की तरहां अनुभव करेगे।

यह कहानी #Sunday को हमारी इस वेबसाईट पर प्रकाशित की जाऐगी,हमे उम्मीद है की आपको पसंद आऐगी।









रदेव की पंजाब के शहर पटिआला में गाड़ियों को ठीक करने की रिपेयर वर्कशॉप है.शाम को काम
ख़तम करने की बाद हरदेव अपने घर वापिस आता है. 

गांव के जुराहे पर कुछ लोग खडे बस के आने का इंतजार कर रहे होते है, कुछ समय के बाद बस आती है
होरन बजाती हुई जो की पंजाब रोडबोज की है,बस के आगे पंजाबी में पटीयाला लिखा होता है हरदेव बस
से नीचे उतरा और उसके साथ गांव के दूसरे लोग बस में चढ गए और बस कंडक्टर ने सीटी 
मारी बस आगे चली गई।

हरदेव जिस ने सिर पर काली रंग की पगड़ी बड़ी है साथ में कुरता पजमा हाथ में खाने वाले टिफ़िन 
को हिलता हुआ और पंजाबी गाना गता अपने घर की तरफ चला आ रहा है। रस्ते में हरदेव को 
पिंड दा लम्बरदार मिलता है। 

हरदेव [ हाथ को ऊपर की तरफ करता ] :- होर फिर लम्बरदार साहिब। 

लम्बरदार [ हरदेव के कंदे पर हाथ रखता ] :- की हाल आ हरदेव सिंह तेरा ?

हरदेव [ हस्ता हुआ  ] :- किरपा लम्बरदार साहिब तुहाडी । 

लम्बरदार [ हरदेव के कंदे पर हाथ रखता ] :-  आज बरी जल्दी आ गया  ?

हरदेव [ हस्ता हुआ  ] :- 
ओह  लम्बरदार साहिब  काम जल्दी ख़तम हो गया ते आपा सीधे घर नु आ गए  । 

हरदेव [ हस्ता हुआ  ] :- अच्छा फिर लम्बरदार साहिब  । 

लम्बरदार [ हरदेव के कंदे पर हाथ रखता ] :-  अच्छा भी अच्छा   ?

Scene  No :- 2  [ हवेली के अंदर का ]

हरजिंदर कौर [ हरदेव की वाइफ ] रसोई में खाना बना रही है, पास ही पिंजरा लटक रहा है 
जिस में तोता खाना खा रहा है,  लवली हरदेव की बेटी चारपाई पर लैपटॉप लिया कुछ देख रही है 

Scene  No :- 3   [ गली के बहार का  ]

हरदेव चला आ रहा है , देखा की दरवाजा बंद है जैसे ही भो दरबाजे पर लगी
बैल को दबाने लगा तभी एक कुत्ता आता है , और दरवाजे पर एक टाँग उठा कर पिसाब करने लगा। 


हरदेव :- [कुत्ते के लात मरते] :- सहलिया इीथे ज्यादा मुतिआ जन्दा। 

कुत्ता भाग गया। 


Scene  No :- 4   [ रसोई वाले कमरे का ]

हरजिंदर खाना बना रही है , तभी बहार से घंटी बजने की आवाज आती है.

हरजिंदर  :- [ खाना बनाते लवली से ] :- लवली पुत्र। ....... देखी ता बहार क्यों आ। 

Scene  No :- 5    [ गली के बहार का  ]

हरदेव बहार खड़ा है, जैसे ही लवली ने दरवाजा खोला तो देखा की बहर कोई  है.

लवली :- [ खुद  से ] :- कौन आ ? 


तभी पीछे से आकर हरदेव ने लवली की आखो को बंद कर लिया।

लवली  :- [ खुद  से ] :- छोटू  ? 

हरदेव [ ना में सर हिलाते   ] :- ना । 

लवली  :- [ होठो में मुस्कारती  ] :- अच्छा पापा आप हो. देखा पापा मेने  आप को पकड़ लिया । 

यह कहते लवली और हरदेव दोनों अंदर की और चले जाते है। 

हरजिंदर  :- [ खाना बनाते   ] :- किया बात है जी आज आप काम से जल्दी आ गए 

हरदेव :- [ पगड़ी को उतरते और चारपाई पर रखते   ] 

              तू भी मुझे जीने नी देती जब लेट आता हु तो पूछती हो जब जल्दी आता हु तो पूछती हो 

हरदेव :- [ लवली से   ] :- पुत्र तेरे रिजल्ट आ गया की नहीं ।

लवली  :- [ ना में सर हिलती   ] :- ना बापू  जी  ।  

हरदेव :- [ बाथरूम की तरफ जाता   ] :- जब आ जाये दस देना पुत्र ।

लवली  :- [ अंदर जाती    ] :- ठीक आ बापू  जी  ।  

Episode no :02  Next Sunday. Please wait 


Click on  this link for more interesting stories.


Without Sugar Tea:- Without sugar Tea hindi short story 




Thanks For Read God u always happy

Team :- vishvtrading

Film writer Association Mumbai.
Do not Sale without our permission but Share anyway without our permission.
  
यह कहानी मुंबाई Film writer Association Mumbai दुबारा copyright है अगर हमारी अनुमति के बिना कोई इंसान इस कहानी को आगे किसी को बेचगा तो उस उपर कानूनी copyright Law India के अनुसार करवाई होगी यां फिर इस कहानी के साथ कोई छोडछाड करता हूं और आगे किसी फिल्म यां टीवी सीरीयल को बचता है तो उस पर कांनूरी करवाई की जा सकती है।

 Lovely Story Copyright Certificate.[ 
Film writer Association Mumbai.]





  

SHARE THIS

Author:

I LOVE WRITING

Previous Post
Next Post