कोचिंग सेंटर के लिए विज्ञापन | Coaching centre ke liye vigyapan

पिछले आर्टिकल में आपको विस्तारपूर्वक समझाया गया,अगर आप अपने शहर में | अपने गांव में न्यू कोचिंग सेंटर खोल रहे हो उसका अच्छा सा नाम क्या रखना चाहिए/यां फिर होना चहिऐ.

और Name रखते Time आपको किन - किन बातों का ध्यान रखना है,वह विस्तारपूर्वक आपकी सेवा में पेश किया गया.आप चाहे New कोचिंग सेंटर खोल रहे हो.


कोई नई किराने की दुकान खोल रहे हो,या फिर कोई Mobile accessories shop अपने गली - महल्ले में खोल रहे हो,आपकी जानकारी के लिए बता दें.



coaching center poster | coaching classes ke liye vigyapan
vishvtrading.com


कि आपके कार्य में नाम का बड़ा योगदान रहता है.आपको अपके नाम से लोग कम जानते होगे और अपकी दुकान के नाम को ज्यादा.


-----------------------------------
-----------------------------------


आगे बात kare की फर्ज करें अपने Coaching Center अपने गांव में आरंभ किया,उसका नाम भी बढ़िया सा रखा तो अब यहां पर गैर करने वाली बात यह रहेगी.

किसी को कैसे पता चलेगा,कि आपने अपने गांव में Tuition center खोला है.अब यहां पर ध्यान से समझे की गांव वालो को तो शुरू से हीं पता चल गया.



जब से आप Tuition center का कमरा बना रहे होगे,उनको खुशी होई होगी की हम यहां पर अपने बच्चें को टूशन के लिए भेज सकते है.

यहां पर गैर करने वाले बात यह Hain की आपके गांव के बिना जो पास में दूसरा गांव यां फिर तीसरा गांव बसता है,उनको कैसे पता चलेगा ? यह सोचने वाली बात है.


बहुत से लोग इस बात पर गैर नहीं करते,लेकिन पुराने समय में जो इंसान नई दुकान खोलता था जैसे की किराने की दुकान तो ऐसे में वो इंसान अपनी दुकान के प्रचार के लिए गांव के किसी बंन्दे को 100/ 50 रपए देकर आस-पास के ईलाकों में डोढ़रा पीटव देता था.


ऐसे में आसपास के लोगों को गांव वालों को शहर वालों को पता चल जाता,कि उस बंदे ने उस Gaon mein इस काम को Start किया hain.लेकिन समय के साथ जैसे-जैसे Waqt बीता तो प्रचार करने के तीरकों में बडा बदलाव आया. 

फिर दैर आया पेंटिंग के जरिए प्रचार करने का जो लोग पेंटिंग बनाते थे आर्टिस्ट थे,दुकान वाले दुकान का प्रचार पेंटिंग के जरिए करवाने लगे,आप अच्छी तरह से जानते होंगे.

कि फिल्म का जो प्रचार था वह भी पेंटिंग के जरिए किया जाता था,जो कि बड़ा कामयाब रहा और पेंटर लोगों  के लिए यह रोजी— रोटी का अच्छा साधन था,तो ढोढ़रों पीटने के तरीके की जगा अब इस पेंटिग के काम ने ले ली. 

वक्त बदला और वक्त के साथ Dukan ke parchar करने के तरीके में भी बदलाव आया लोग Radio पर दुकान का प्रचार करवाने लगे और फिर उसके बाद टीवी आया और लोग दुकान के प्रचार के लिए dukan ka vigyapan television पर देने लगे.


फिर Time के साथ Computer  का जमाना आ गया,जिसने सब कुछ डिजिटल कर दिया अब बात करें कोचिंग सेंटर के विज्ञापन की कोचिंग सेंटर के लिए विज्ञापन आप दो-तरीकों से कर सकते हो

Coaching centre ke liye vigyapan आपने कैसे लिखना है.उसके बारे में नीचे आपकी भाषा हिंदी में आपको बड़े विस्तारपूर्वक समझाया गया है.


कोचिंग सेंटर के लिए विज्ञापन | Coaching centre ke liye vigyapan

कोचिंग सेंटर के लिए विज्ञापन लिखने से पहले कुछ मोटी-मोटी बातों का ध्यान रखना है,जिनके बारे में नीचे आपको बड़े विस्तार पूर्वक बताया गया. 

1.एक ही भाषा में विज्ञापन को ना छवाऐ.
2.विज्ञापन की भाषा बहुत ही सरल होनी चाहिए. 
3.हमेशा ही Attractive भाषा में विज्ञापन छवाऐ. 
4.विज्ञापन को मोटे - मोटे शब्दों में लगवाए,ताकि वह इंसान भी पढ़ सके जिसकी नजर कमजोर है.



............ कांचिंग सैंटर का नाम ............

खुशखबरी | खुशखबरी | खुशखबरी

" आपको बताते हुऐ बडी खुशी हो रही है,की अब आपके गांव / शहर में नयां कांचिग सैंटर खुल गया है.यहां पर आपके बच्चें को बेहतरहीन तरीके से ट्यूशन पढ़ाया जाएगा 

बच्चों को उच्च शिक्षा देने के लिए हमारे पास बेहतरीन Teachers है.इसके बिना हमारे कोचिंग सेंटर पर बच्चों के लिए विशेष प्रबंध किया गया है जैसे:- 

1.बदलते मौसम के साथ ठंडे और गर्म पानी का खास प्रबंध. 
2.बच्चे और लड़कियों के लिए अलग-अलग Bathroom. 
3.हमारे कोचिंग सेंटर में लाइट चले जाने के बाद इनवर्टर का खास तौर पर प्रबंध है. 
4.सर्दियों में बच्चों के लिए हीटर और गर्मियों में बच्चों के लिए कूलर का खास प्रबंध है.
5.फी् में मास्क दिया जाता है.
6.Corona safety kit आपको फी् में मिलेगी.
7.लॉकडाउन में आनलाईन पढ़ाई करने के लिए नैंट फी् में दिया जाऐगा.
8.कोरना काल में बच्चों को आनलाईन पढ़ाई का खास इंतजाम. 

Mobile number .....................
Opening Time ............................ गर्मीयों और सर्दीयों के लिए

............  खांस आफर .... एक हीं घर के दो बच्चें को एक को टूशशन मुफत दिया जाऐगा.


कुछ इस तरह से कोचिंग सेंटर के लिए विज्ञापन बनाइए और बाद में इनको अपने आसपास के इलाकों में गली मोहल्ले में लगवा दें,तो ऐसा करने से आपके कोचिंग सेंटर की एक बेहतरीन तरीके से एडवर्टाइजमेंट होगी 


 

1.कोचिंग सेंटर का प्रचार कैसे करे ?

बहुत करें,कोचिंग सेंटर के प्रचार करने की,तो आज के जमाने में प्रचार कई तरीकों से कर सकते हो.इन तरीकों में से जो सबसे ज्यादा कारगर तरीके हैं.

प्रचार करने के लिए इनमें से एक तरीका है ऑफलाइन तरीके से कर सकते हो और दूसरा तरीका ऑनलाइन  तरीके से Parchar कर सकते हैं.जहां नीचे इसके बारे में विस्तार पूर्वक समझाया गया hain आइए जाने इन दो तरीकों के बारे में.



1.ऑफलाइन तारिके से प्रचार कैसे करें

कोचिंग सेंटर का ऑफलाइन प्रचार इस vidhi से करवा सकते हो,कि इसके पोस्टर छपवा कर गांव के आसपास के इलाकों में | शहर में | गली मोहल्ले aur  स्कूल | कॉलेज के पास लगा सकते हो,इस तरीके के जरिए जो प्रचार होगा Bho आपका ऑफलाइन प्रचार कहलाएगा. 



2.ऑनलाइन तरीके से प्रचार कैसे करें

अब आगे बात करें, कि Online तरीके से हम कोचिंग सेंटर का प्रचार कैसे करेंगे तो इसके लिए जो सबसे कारगर तरीका Google advertising के जरिए आप अपने सेंटर का प्रचार कर सकते हो.इसके बिना यूट्यूब के माध्यम से फेसबुक | इंस्टाग्राम के माध्यम से भी आप अपने tuition center का प्रचार कर सकते हो.


अंत में :- इस तरीके से नए खोले कोचिंग सेंटर के लिए विज्ञापन बनाइए,उसके बाद ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरीकों से प्रचार करें,जिसका बेनिफिट यह रहेगा की लोगों को सेंटर के बारे में ज्यादा से ज्यादा पता चलेगा.



SHARE THIS

Author:

I LOVE WRITING

Previous Post
Next Post