Thursday, August 30, 2018

Hindi Story with Moral Lovely Episode 02

introduction:- 

Hello world welcome. you can read here Lovely Hindi Tv Serial story who based on Punjabi Kuri lovely. 




Hindi Story with Moral

Read First Episode Click on this Link

Lovely Episode No 1 


Episode No: 02

सबुह का समय है।

हरदेव अपनी वर्कशॉप पर काम कर रहा है,तभी साईकिल पर अखबार देने वाला आया ओैर जाते - जाते अखबार को हरदेव के पास फैंकते बोला

अखबार वाला :-  सरदार जी अखबार।

तभी हरदेव ने अपनी वर्कशॉप पर जो लडका काम पर रखा था वो आया हाथ में खाने वाला डिब्बा है इसका नाम अप्पू है।

अप्पू हरदेव से :-  उस्ताद जी .....स़तश्रीआकाल जी।

हरदेव  ने गाडी को बैलड करते - करते ने कलाई पर लगी घडी पर समय देखा जिस पर सुबह के 11 बज कर पॉच मिन्ट हो गए है।


हरदेव :-  ओ खोतियां यह कोई काम पर आने का टाईम ऐ यार ......सबुह दे 11 बज रहे ने।


अप्पू काम वाले कपडे पहिनते हरदेव से।

अप्पू हरदेव से :-  उस्ताद जी .....बो आज उठा नी गया जी बस साला इसी सिलसिले मे लेट हो गया जी ।


हरदेव :-  खोतियां मुझे पता ऐ .......की तू कौन से सिलसिले में लोट हुआ ऐ .....अब जल्दी से काम पर लग जा .....और यह अखबार उठाकर समाने वाले टेबल पर रख दे ....कुढीयावा फैंक के चला गया अपने बाप को।


अप्पू ने गुनगुनाते  ने अखबार को उठाया  और बाद में अंदर की तरफ चला गया।


तभी एक लड़की बाईक पर हरदेव की वर्कशॉप पर आती है कॉनों में होडफोन लगे है उसने अपनी बाईक को खडा किया और कानों से हेडफोन को निकाली हुई हरदेव के पास चली आई इस लड़की का नाम बेबी ह।

बेबी हरदेव से :-   अंकल जी  Good Morning जी।

हरदेव :-    Morning जी प़ुत्र।

बेबी हरदेव से :-   अंकल मेरी बाईक में डैट पड गया ...देखना जरा।

हरदेव अप्पू से :-    ओ अप्पू इस #Kuri दी बाईक को देखना जरा क्या हुआ ऐ।

इधर अप्पू कांनों में Headphone लगाई मजे से गाडी को पानी से धो रहा है और उसको हरदेव की आवाज़ सुनाई नही दी। यह देखते हरदेव ने उसको एक बार फिर से कहा।

हरदेव अप्पू से :-    ओ खोतिआं ... बाईक को देखना जरा क्या हुआ ऐ।

इस बार भी अप्पू को हरदेव की आवाज़ सुनाई नही दी बाद में हरदेव उठकर उसकी तरफ चला गया और उसने अप्पू को कांनों से Headphone को निकाल दिया।

अप्पू हरदेव से :-  उस्ताद जी .....की गॅल।


हरदेव अप्पू से :-    मैं तुझे कब का  आवाज़ लगा रहा हूं की इसी Kuri की #Bike को देख ले लेकिन तूं है की गानों में मस्त मेरी आवाज़ को सुनता ही नही।

हरदेव की इस बात पर बेबी होठों में मुस्कराती है तभी उसको फोन आया और बो फोन पर बात करनी लगी।


अप्पू हरदेव से :-  उस्ताद जी .....सॉरी जी .....इन हेडफोन की बजा से आवाज़ सुनाई नही दी जी।


हरदेव अप्पू से :-    ओ खोतिआं ... सॉरी नी #Sorry होता ऐ ....चल अब इस लडकी को बाईक को देख ।


अप्पू हरदेव से :-   ठीक उस्ताद जी बल पैदां ऐ गॅल विॅच।

बाद में अप्पू बाईक को देखने लगा और बेबी अभी तक फोन पर बात कर रही है।


Friday, August 17, 2018

Hindi Laghu Katha Lovely Episode No 1

One line :- 

ह कहानी लवली नाम की लड़की जो की पंजाब के एक गांव #Patiala के पास रहती है उसके आस पास घूम रही है, यह एक #Hindi Tv #Serial की कहानी की तरहां है जिसको आप पढते समय टीवी सीरीयल की तरहां अनुभव करेगे।

यह कहानी #Sunday को हमारी इस वेबसाईट पर प्रकाशित की जाऐगी,हमे उम्मीद है की आपको पसंद आऐगी।










रदेव की पंजाब के शहर पटिआला में गाड़ियों को ठीक करने की रिपेयर वर्कशॉप है.शाम को काम
ख़तम करने की बाद हरदेव अपने घर वापिस आता है. 

गांव के जुराहे पर कुछ लोग खडे बस के आने का इंतजार कर रहे होते है, कुछ समय के बाद बस आती है
होरन बजाती हुई जो की पंजाब रोडबोज की है,बस के आगे पंजाबी में पटीयाला लिखा होता है हरदेव बस
से नीचे उतरा और उसके साथ गांव के दूसरे लोग बस में चढ गए और बस कंडक्टर ने सीटी 
मारी बस आगे चली गई।

हरदेव जिस ने सिर पर काली रंग की पगड़ी बड़ी है साथ में कुरता पजमा हाथ में खाने वाले टिफ़िन 
को हिलता हुआ और पंजाबी गाना गता अपने घर की तरफ चला आ रहा है। रस्ते में हरदेव को 
पिंड दा लम्बरदार मिलता है। 

हरदेव [ हाथ को ऊपर की तरफ करता ] :- होर फिर लम्बरदार साहिब। 

लम्बरदार [ हरदेव के कंदे पर हाथ रखता ] :- की हाल आ हरदेव सिंह तेरा ?

हरदेव [ हस्ता हुआ  ] :- किरपा लम्बरदार साहिब तुहाडी । 

लम्बरदार [ हरदेव के कंदे पर हाथ रखता ] :-  आज बरी जल्दी आ गया  ?

हरदेव [ हस्ता हुआ  ] :- 
ओह  लम्बरदार साहिब  काम जल्दी ख़तम हो गया ते आपा सीधे घर नु आ गए  । 

हरदेव [ हस्ता हुआ  ] :- अच्छा फिर लम्बरदार साहिब  । 

लम्बरदार [ हरदेव के कंदे पर हाथ रखता ] :-  अच्छा भी अच्छा   ?



Scene  No :- 2  [ हवेली के अंदर का ]

हरजिंदर कौर [ हरदेव की वाइफ ] रसोई में खाना बना रही है, पास ही पिंजरा लटक रहा है 
जिस में तोता खाना खा रहा है,  लवली हरदेव की बेटी चारपाई पर लैपटॉप लिया कुछ देख रही है 


Scene  No :- 3   [ गली के बहार का  ]

हरदेव चला आ रहा है , देखा की दरवाजा बंद है जैसे ही भो दरबाजे पर लगी
बैल को दबाने लगा तभी एक कुत्ता आता है , और दरवाजे पर एक टाँग उठा कर पिसाब करने लगा। 


हरदेव :- [कुत्ते के लात मरते] :- सहलिया इीथे ज्यादा मुतिआ जन्दा। 

कुत्ता भाग गया। 


Scene  No :- 4   [ रसोई वाले कमरे का ]

हरजिंदर खाना बना रही है , तभी बहार से घंटी बजने की आवाज आती है.

हरजिंदर  :- [ खाना बनाते लवली से ] :- लवली पुत्र। ....... देखी ता बहार क्यों आ। 



Scene  No :- 5    [ गली के बहार का  ]

हरदेव बहार खड़ा है, जैसे ही लवली ने दरवाजा खोला तो देखा की बहर कोई  है.

लवली :- [ खुद  से ] :- कौन आ ? 


तभी पीछे से आकर हरदेव ने लवली की आखो को बंद कर लिया।

लवली  :- [ खुद  से ] :- छोटू  ? 

हरदेव [ ना में सर हिलाते   ] :- ना । 

लवली  :- [ होठो में मुस्कारती  ] :- अच्छा पापा आप हो. देखा पापा मेने  आप को पकड़ लिया । 

यह कहते लवली और हरदेव दोनों अंदर की और चले जाते है। 

हरजिंदर  :- [ खाना बनाते   ] :- किया बात है जी आज आप काम से जल्दी आ गए 

हरदेव :- [ पगड़ी को उतरते और चारपाई पर रखते   ] 

              तू भी मुझे जीने नी देती जब लेट आता हु तो पूछती हो जब जल्दी आता हु तो पूछती हो 

हरदेव :- [ लवली से   ] :- पुत्र तेरे रिजल्ट आ गया की नहीं ।

लवली  :- [ ना में सर हिलती   ] :- ना बापू  जी  ।  

हरदेव :- [ बाथरूम की तरफ जाता   ] :- जब आ जाये दस देना पुत्र ।

लवली  :- [ अंदर जाती    ] :- ठीक आ बापू  जी  ।  

Episode no: 02  Next Sunday. Please wait 


Click on this link for more interesting stories.




Without Sugar Tea:- Without sugar Tea hindi short story 





Film writer Association Mumbai.
Do not Sale without our permission but Share anyway without our permission.
  
यह कहानी मुंबाई Film writer Association Mumbai दुबारा copyright है अगर हमारी अनुमति के बिना कोई इंसान इस कहानी को आगे किसी को बेचगा तो उस उपर कानूनी copyright Law India के अनुसार करवाई होगी यां फिर इस कहानी के साथ कोई छोडछाड करता हूं और आगे किसी फिल्म यां टीवी सीरीयल को बचता है तो उस पर कांनूरी करवाई की जा सकती है।


 Lovely Story Copyright Certificate.[ Film writer Association Mumbai.]








आपको हमारी यह रचना [Script/ Rachna kaisi lagi ] पसंद आई, तो आप से हमारा Request है, की आप इसको अपने Mitro के साथ साझा [ Share ] करें.

Thanks For reading, Friends if you like this Post then please share with Family members and friends. if you like this article then please comments.



पैसे कमाने के बारे में जानने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करे| paise kamane ke baare mein jankari chahte hain tou mere channel ko subscribe kare.  


इस  पढ़े :- 👎









[ Tag ]

मित्रता पर शायरी | safaltaa ka rahasya in hindi | vishvtrading.com | 
दिल को छू सच के लिए हिंदी में प्रेरक विचारों | प्रेरणादायक लघु कहानी | अति लघु कथा | मार्मिक लघु कथा |  प्रेरक लघु कथाएं
लघु हास्य कथाएं | लघुकथा संग्रह | रोचक लघु कहानी | आध्यात्मिक लघु कथा


Friday, May 25, 2018

Bus Girl Hindi Laghu Kahani लघु हास्य कथाएं

यह कहानी लड़की के आसपास घूम रही है।









सुबह का समय है,घडी पर वक्त देखा तो घडी कलाई पर नही लगी थी, मंथे पर हाथ मारा और खुद से बोला अरे यार घडी को तो मैं ज्ल्दी में लगना ही भूल गया।

समाने दो आदमी आपिस में झगडा कर रहे है, मैं उनके पास जाने लगा तभी बस आ गई, बस में से सवारीयों नीचे उतरी और मैं उनके बाद बस में चढ गया, तभी मेरी नज़र पीछे की तरफ गई देखा की एक लड़की बस के पीछे भागी आ रही है, बस रूक गई और लड़की चढ गई |


कंडक्टर के टिक्ट मांगने पर मैने जेब में हाथ डाला तो जेब में परस नही था.

कंडक्टर :-  '' बाई साहिब टिक्ट ''

मैंने बोला  :- " वो ...... जल्दबाजी  में ........परस घर पर ही भूल गया ''

कंडक्टर मेरे कंन्थे पर हाथ रखते बोला :-  '' तुम्हारे जैसे हम को रोज 36 मिलते है,चल जल्दी से पैसे निकाल ''

लड़की  मेरे तरफ देख रही थी, मैंने बैग में परस को ढूढा लेकिन वहां पर वी नही मिला, मन में परस को गाली वी दे रहा था।




लड़की कंक्डटर को पैसे देते बोली :-  '' भाईयां .....यह लो दो टिक्ट ''


मैंने लड़की को सारी बात बता दी

लडकी ने होठों में मुस्कराते हुऐ कहा :- '' कोई बात नही ..... हो जाता है कभी कभी ऐसा ''


तभी उसका   Stop आ गया और वो उतर गई, एक साल हो गया अब भी मैं उसको बस में हर रोज ढूढता हूं और अभी तक नही मिली।

जब मिलेगी जो बात - चीत हमारे बीच होगी, उसको कलम के चारिऐ आप तक पुहंचा दुंगा।


The End
aman03

LIST OF VISHV TRADING HINDI STORIES.

1  Panchvi interview

2  Without sugar Tea hindi short story   



  
आपको हमारी यह रचना [Script/ Rachna kaisi lagi ] पसंद आई, तो आप से हमारा Request है, की आप इसको अपने Mitro के साथ साझा [ Share ] करें.

Thanks For reading, Friends if you like this Post then please share with Family members and friends. if you like this article then please comments.


पैसे कमाने के बारे में जानने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करे| paise kamane ke baare mein jankari chahte hain tou mere channel ko subscribe kare. 



इस  पढ़े :- 👎


खुद का बिजनेस कैसे करे 




 

मित्रता पर शायरी | safaltaa ka rahasya in hindi | vishvtrading.com | 
दिल को छू सच के लिए हिंदी में प्रेरक विचारों | सामाजिक हास्य कहानी | whatsapp हास्य कहानी | बाल हास्य कथा | मजेदार लघु कथा | हास्य किस्से | हास्य कहानी इन हिंदी पीडीएफ | बच्चों की हास्य कहानियाँ |हास्य व्यंग्य नाटक


        

Saturday, March 17, 2018

The lock room short story

A traveler reached a town late public house the night. it was raining heavily the night was stormy. he went to the nearest in for shelter.
The lock room short story



The door of the public house was locked from inside. he knocked at it many times.the public housekeeper said.

" I am sorry.......... the key is lost..........only a black key can open the door"

The traveler understood what the public housekeeper wanted. He pushed a one-rupee coin under the door. the public housekeeper went out. The traveler locked the door from inside. The keeper knocked at it.


The traveler said that the door would not open without a black key. The keeper had to return the son.




LIST OF HINDI STORIES.




यह भी पढ़े और एक दिन में मालमाल हो जाऐ

इंटरनेट से पैसे कमाने का दुसरा रास्ता

ख़बरी से जल्दी पैसे केैसे कमाऐ घर बैठकर




 


मित्रता पर शायरी | safaltaa ka rahasya in hindi | vishvtrading.com | janm din par kavita | kavita pyar par | 2019 ki anmol bachan shayari | dosti par ache vichar hindi me | दिल को छू सच के लिए हिंदी में प्रेरक विचारों | 


Thursday, March 8, 2018

The Gupt Treasure

One Line:- This story is about a farmer and his sons who live in a small village.


There Lived an old farmer. He had four sons. There was very lazy. he wanted to teach them the value of hard work. But the lazy sons.did not care for his advice.



The Gupt  Treasure




One day, the farmer fell ill. He was on death bed. He called his sons and said

" I have buried a treasure in my field. But I do not remember the exact Place. Dig it out after my death"

after the death of their father, they went to the field They dig it from end to end but they found no treasure. They became sad.

In the meantime, an old man passed that way. He knew what their father meant. He advised them to sow seeds. They acted upon this advice. They prepared a rich harvest. They became rich. Thus they learned the value of hard work.



Moral:- No pain no gain.

--------

Here is some more interesting story you can read.






मित्रता पर शायरी | safaltaa ka rahasya in hindi | vishvtrading.com | janm din par kavita | kavita pyar par | 2019 ki anmol bachan shayari | dosti par ache vichar hindi me | दिल को छू सच के लिए हिंदी में प्रेरक विचारों |